You are currently viewing 8+ ‘जुर्माना माफ़ी’ हेतु प्राथना पत्र || jurmana mafi ke liye prathna patra
jurmana mafi ke liye prathna patra

8+ ‘जुर्माना माफ़ी’ हेतु प्राथना पत्र || jurmana mafi ke liye prathna patra

हेलो मित्रो नमस्कार स्वागत है आपका हमारी साइट Essayster.com पर, मित्रो इस ब्लॉग में हमने 3 jurmana mafi ke liye prathna patra लिखे है, जो आपको जरूर पसंद आएंगे। ये सभी पत्र स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए बेहद ही फायदेमंद होंगे। अगर आपने इन प्राथना पत्रों को ध्यान से पढ़ लिया तो मैं गॉरंटी लेता हु, आपको कभी भी इनमे कोई दिक्कत या परेशानी नहीं होगी।

जो पत्र मैंने लिखे है, अगर वे आपके इन्क्वारी से मिलते जुलते है तो आपको केवल इन पत्रों में से अपने स्कूल का नाम उसका पता, अपनी सभी जानकारी केवल रेप्लस कर देनी है, बस। तो चलिए देखते है……

जुर्माना माफ़ी के लिए प्राथना पत्र (jurmana mafi ke liye prathna patra)

1). अगर आपसे/student से स्कूल का कोई भी नुकसान हो जाये। जैसे- स्कूल का कांच तोड़ देना, फर्नीचर तोड़ देना, आदि।

Note:- आपको फॉर्मेट पर खासतौर से ध्यान देना है। जैसे लाइनिंग कहा कहा है, क्योकि इसके भी मार्क्स मिलते है।

सेवा में,

श्रीमान प्रधानचार्य जी

RPS इंटर कॉलेज

चंडक, बिजनौर (UP)

विषय:- जुर्माना माफ़ी हेतु प्राथना पत्र

महोदय,

सविनय निवेदन इस प्रकार है, की मैं आपके स्कूल के कक्षा 9 वी का छात्र हु, कल मैं स्कूल के ग्राउंड में वॉलीबाल खेल रहा था। खेलते खेलते अचानक बॉल मुझसे छूट कर स्कूल के विंडो पर जा लगी जिससे विंडो का कांच टूट गया। मुझे इससे बेहद दुःख पंहुचा था। मेरी क्लास टीचर ने मुझ पर 1000 रुपए का जुर्माना लगाया है, जो की हमारी आर्थिक स्तिथि के अनुसार बहुत अधिक है।

इसलिए मैं आपसे प्राथना करता हु की कृपया मेरे ऊपर से जुर्माना मुक्त कर दे। मैं अब कभी भी स्कूल में नहीं खेलूंगा। वो कांच भी मेरे हाथो धोके से ही टुटा था। मेरा ऐसा कोई मकसद नहीं था, की मैं स्कूल का कोई भी नुकसान करू। आपसे अनुरोध है, मेरे ऊपर से जुर्माना मुक्त करने की चेस्टा करे। आपकी अति कृपा होगी।

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

नाम: सचिन कुमार

कक्षा: 9

रोल न. 21 

2). अगर आप/स्टूडेंट स्कूल देर से पंहुचा हो।

सेवा में,

श्रीमान प्रधानचार्य जी

RPS इंटर कॉलेज

चंडक, बिजनौर (UP)

विषय:- जुर्माना माफ़ी हेतु प्राथना पत्र

महोदय,

सविनय निवेदन इस प्रकार है, की मैं आपके स्कूल के कक्षा 8वी का छात्र हु। कल जब मैं स्कूल आ रहा था तब अचानक मेरी साइकिल ख़राब हो गयी जिसके कारण मैं अपनी क्लास में कुछ देरी से पंहुचा। मेरे क्लास टीचर ने मुझ पर 50 रुपए का जुर्माना लगा दिया। अतः मैं आपसे प्राथना करना चाहता हु की आप मुझे इस जुर्माना से मुक्त कर देने की कृपा करे। आपकी अति कृपा होगी।

सधन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

नाम: मोहन कुमार

कक्षा: 8

रोल न. 22

दिनांक: 26/12/

ALSO READ:- 50+ ‘आग’ के पर्यायवाची शब्द

3). अगर आप/विद्यार्थी स्कूल से छुट्टी ले ले।

सेवा में,

श्रीमान प्रधानचार्य जी

RPS इंटर कॉलेज

चंडक, बिजनौर (UP)

विषय:- जुर्माना माफ़ी हेतु प्राथना पत्र

महोदय,

सविनय निवेदन इस प्रकार है, की मैं आपके स्कूल के कक्षा 9 वी का छात्र हु। मेरे हिंदी के अध्यापक ने हमारी परीक्षा लेनी तय करी थी। मैंने भी परीक्षा की पूरी त्यारी कर ली थी। लेकिन जब मैं स्कूल आ रहा था तब अचानक मेरी वैन से गिर कर चोट लग गयी थी। जिससे मैं स्कूल जाने में असमर्थ रहा और मैं अपनी हिंदी की परीक्षा भी नहीं दे पाया। परीक्षा न देने के कारण हिंदी के टीचर ने मुझ पर 70 रुपए का जुर्माना लगा दिया। अतः मेरी आपसे प्राथना है, की मुझे जुर्माने से मुक्त करने की कृपा करे। आपकी अति कृपा होगी।

धन्यवाद।

आपका आज्ञाकारी शिष्य

नाम: मोहन कुमार

कक्षा: 8

रोल न. 22

दिनांक: 26/12/

ALSO READ:- 160+ ऋ की मात्रा वाले शब्द (Hindi)

निष्कर्ष:-

इस ब्लॉग में आपने jurmana mafi ke liye prathna patra पढ़े। आशा करते है, आपको हमारी ये जानकारी पसंद आयी होगी। यदि आपको कोई दिक्कत या कोई सवाल हो आप बेझिझक हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

अगर इन प्राथना पत्रों से आपकी कोई मदद होई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे।

Leave a Reply