You are currently viewing समाचार पत्र पर निबंध – Samachar patra essay in hindi
Samachar patra essay in hindi

समाचार पत्र पर निबंध – Samachar patra essay in hindi

नमस्कार मित्रो, इस आर्टिकल में हमने समाचार पत्र पर एक सुन्दर निबंध लिखा है। यह निबंध सभी स्कूल के छात्रों के साथ साथ सभी तरह की competition परीक्षा के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगा। इस निबंध को पढ़ने के बाद आपको कही और Samachar patra essay in hindi खोजने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

समाचार पत्र पर निबंध 200 शब्द में (Short essay on newspaper)

समाचार पत्र जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग बन चुका है। हर रोज हम इसका उपयोग करते हैं। हमारे पास की न्यूजों के साथ साथ यह देश विदेश की न्यूजों के विषय में भी सूचना देता है। समाचार पत्र  हर क्षेत्र की खबर  देता रहता है।  खेल का या राजनीति का क्षे़त्र हो। या  तकनीकी का क्षेत्र हो समाचार पत्र अपने कार्य को बड़ी बखूबी से निभाते हैं।

 समाचार पत्र के द्वारा सभी घटनाओं की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के साथ साथ हमारे ज्ञान का भी विकास करते हैं। अतः समाचार पत्र जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है जिसके बिना हम अधूरे हैं।

किसी भी घटना के विषय में सूचना समाचार पत्र के जरिए से प्राप्त हो जाती है। समाचार पत्र हमें हर स्थिति का विवरण बड़े ही सरल रूप से प्रदान कर देता है।

समाचार पत्र की  खासियत यह भी है कि यह अपने मूल्य की तुलना में  अधिक सूचना देने की कोशिश करता है। इसी वजह से ज्यादातर लोग  समाचार पत्र को सुबह पढ़ना पसंद करते हैं।   समाचार पत्र हमारे ज्ञान को भी बढ़ाने में  काफी सहायता करता हैं। हर क्षेत्र की सूचना देता है इससे द्वारा नए क्षेत्रों के बारे में हमारा परिचय हो़ता है और जिन क्षेत्रों के बारे में हमे पता हैं उसके द्वारा हमें उसकी वर्तमान स्थिति का पता रहता है।

समाचार पत्र पर निबंध 400 शब्द में

समाचार पत्र जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग बन चुका है। हर रोज हम इसका उपयोग करते हैं। हमारे पास की न्यूजों के साथ साथ यह देश विदेश की न्यूजों के विषय में भी सूचना देता है। समाचार पत्र  हर क्षेत्र की खबर  देता रहता है।  खेल का या राजनीति का क्षे़त्र हो। या  तकनीकी का क्षेत्र हो समाचार पत्र अपने कार्य को बड़ी बखूबी से निभाते हैं।

 समाचार पत्र के द्वारा सभी घटनाओं की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के साथ साथ हमारे ज्ञान का भी विकास करते हैं। अतः समाचार पत्र जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है जिसके बिना हम अधूरे हैं।

किसी भी घटना के विषय में सूचना समाचार पत्र के जरिए से प्राप्त हो जाती है। समाचार पत्र हमें हर स्थिति का विवरण बड़े ही सरल रूप से प्रदान कर देता है।

समाचार पत्र की  खासियत यह भी है कि यह अपने मूल्य की तुलना में  अधिक सूचना देने की कोशिश करता है। इसी वजह से ज्यादातर लोग  समाचार पत्र को सुबह पढ़ना पसंद करते हैं।   समाचार पत्र हमारे ज्ञान को भी बढ़ाने में  काफी सहायता करता हैं। हर क्षेत्र की सूचना देता है इससे द्वारा नए क्षेत्रों के बारे में हमारा परिचय हो़ता है और जिन क्षेत्रों के बारे में हमे पता हैं उसके द्वारा हमें उसकी वर्तमान स्थिति का पता रहता है।

समाचार पत्र  सूचनाओं के बारे में अवगत करने का सबसे सरल जरिया बन गए हैं। समाचार पत्रों से वर्तमान में चल रही घटनाओं की जानकारी हम हर रोज प्राप्त करते हैं। सुबह सबसे पहले अपने अन्य कार्यों के अलावा समाचार पत्र पढ़ना पसंद करते हैं जिससे कि वह अपने शहर, देश और दुनिया की पूरी खबर रख सके। समाचार पत्र अनेक क्षेत्रों में जैसे राजनीति, खेल, तकनीकी, अर्थशास्त्र और फिल्म जगत से संबंधित आदि सूचनाये प्रदान करता हैं।

ALSO READS : मेरे प्रिय अध्यापक पर निबंध

समाचार पत्र पर निबंध 800 शब्द में (Long essay on newspaper)

समाचार पत्र का परिचय :

समाचार पत्र जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग बन चुका है। हर रोज हम इसका उपयोग करते हैं। हमारे पास की न्यूजों के साथ साथ यह देश विदेश की न्यूजों के विषय में भी सूचना देता है। समाचार पत्र  हर क्षेत्र की खबर  देता रहता है।  खेल का या राजनीति का क्षे़त्र हो। या  तकनीकी का क्षेत्र हो समाचार पत्र अपने कार्य को बड़ी बखूबी से निभाते हैं।

 समाचार पत्र के द्वारा सभी घटनाओं की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के साथ साथ हमारे ज्ञान का भी विकास करते हैं। अतः समाचार पत्र जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है जिसके बिना हम अधूरे हैं।

किसी भी घटना के विषय में सूचना समाचार पत्र के जरिए से प्राप्त हो जाती है। समाचार पत्र हमें हर स्थिति का विवरण बड़े ही सरल रूप से प्रदान कर देता है।

समाचार पत्र की  खासियत यह भी है कि यह अपने मूल्य की तुलना में  अधिक सूचना देने की कोशिश करता है। इसी वजह से ज्यादातर लोग  समाचार पत्र को सुबह पढ़ना पसंद करते हैं।   समाचार पत्र हमारे ज्ञान को भी बढ़ाने में  काफी सहायता करता हैं। हर क्षेत्र की सूचना देता है इससे द्वारा नए क्षेत्रों के बारे में हमारा परिचय हो़ता है और जिन क्षेत्रों के बारे में हमे पता हैं उसके द्वारा हमें उसकी वर्तमान स्थिति का पता रहता है।

समाचार पत्र  सूचनाओं के बारे में अवगत करने का सबसे सरल जरिया बन गए हैं। समाचार पत्रों से वर्तमान में चल रही घटनाओं की जानकारी हम हर रोज प्राप्त करते हैं। सुबह सबसे पहले अपने अन्य कार्यों के अलावा समाचार पत्र पढ़ना पसंद करते हैं जिससे कि वह अपने शहर, देश और दुनिया की पूरी खबर रख सके। समाचार पत्र अनेक क्षेत्रों में जैसे राजनीति, खेल, तकनीकी, अर्थशास्त्र और फिल्म जगत से संबंधित आदि सूचनाये प्रदान करता हैं।

समाचार पत्र का प्रारंभ :

समाचार पत्र का प्रारंभ सबसे पहले इटली के बेसिन नाम के स्थान में 16वीं शताब्दी में हुआ था। समाचार पत्र फेमस हो गए और दुनिया में इनकी वाहवाही की जाने लगी। और इसकी इतनी ख्याति हो गयी कि इसे दूसरे देशों ने पसंद करना शुरू कर दिया। समाचार पत्रों ने  और अधिक ख्याति तब पाई जब 17वीं शताब्दी के आरंभ में इसे इंग्लैंड ने पसंद करना शुरू कर दिया।

भारत में समाचार पत्र की शुरूआत  अंग्रेजो के शासन काल में हुई। भारत का पहला समाचार पत्र कोलकाता में सन 1780 ई. मे ‘दी बंगाल गैजेट‘ के नाम से छापा  गया। समाचार पत्र का संपादन जेम्स हिक्की ने किया। इसके बाद अन्य देशों की तरह भारत देश में समाचार पत्र की लोकप्रियता बढ़ने लगी और  भारत में कई प्रकार के समाचार पत्र उपलबध हैं।

समाचार पत्र की व्याख्या :

सूचना या खबर आवश्यक सूचनाओं को चिठठी या कागज पर छापने वाले चिठठी को ही समाचार पत्र कहते हैं। पहले के समय में और आज के समय में  समाचार पत्रों के प्रस्तुत ेकरने में बहुत अंतर आ गया है। सूचनाओं की अदला बदली मनुष्य के जन्म से ही जुड़ी होती है वह सूचनाओं को भेजने और अर्जित करने के लिए अलग अलग साधनों और वस्तुओं का उपयोग करता  है।

क्या है समाचार पत्र :

समाचार पत्र संस्कृति, परम्पराओं, कलाओं, पारस्परिक नृत्य आदि के विषय में सूचनाये देता है। जब  इंसानो को अपने नौकरी से हटकर कुछ  जानने का समय नहीं मिलता है, तो ऐसी परिस्थिति में मेलों, उत्सवों, त्योहारों, सांस्कृतिक त्योहारों आदि का दिन व तारीख के विषय में बताता है। यह समाज, शिक्षा, भविष्य, उकसाव संदेश और विषयों के बारे में सूचनाओ के साथ ही इच्छा पूर्ण वस्तुओं के विषय में बताता है, इसलिए  हमें कभी भी नहीं परेशान करता है।  संसार की सभी वस्तुओं की जानकारी  अपने रुचि पूर्ण विषयों के जरिए से प्रोत्साहित करता है। 

समाचार पत्र की भाषा :

समाचार पत्र को किसी भी भाषा जानने वाला आदमी पढ़ सकता है। समाचार पत्र कई भाषाओं में प्राप्त होते हैं जिससे पढ़ने वाला व्यक्ति अपनी इच्छा के अनुरूप अपनी समाचार पत्र की भाषा का चुनाव कर सकते है। इससे खबर हर स्थान पर चाहे शहर हो या गांव  बड़ी सरलता से पहुंच जाती है।

समाचार पत्र का महत्व :

समाचार पत्र बहुत ही आवश्यक वस्तु है। यह सभी के लिए  दिन का आरंभ करने के लिए पहली और आवश्यक वस्तु है।  दिन का आरंभ ताजी खबरों और जानकारियों के साथ करना बहुत अच्छा होता है।  हमें आत्मविश्वासी बनाता है और हमारे व्यक्तित्व को उत्तम बनाने में हमारी सहायता करता है। समाचार पत्र के द्वारा सबसे पहले   खबरों की जानकारी प्रदान होती है। देश का नागरिक होने के नाते, देश तथा अन्य देशों में होने वाली  घटनाओं और विवादों के विषय में जानने के लिए पूर्ण रूप से जिम्मेदार हैं।  हमें राजनीति, खेल, व्यापार, उद्योग आदि विषयों के बारे में सूचित करता है। बॉलीवुड और व्यावसायिक हस्तियों के निजी जिंदगी के बारे में भी सूचना देता है।

समाचार पत्र का उपयोग :

समाचार पत्रों में सिर्फ खबरों के विस्तृत वर्णन प्रकाशित होता था।  अब तो इसमें बहुत से विषयों के बारे में सूचना और विशेषज्ञों के विचार यहाँ तक कि, सभी विषयों की सूचना भी निहित होती है। कुछ समाचार पत्रों का मूल्य बाजार में उनकी खबरों के विस्तृत वर्णन और उस क्षेत्र में प्रसिद्धि के कारण अलग होती है। समाचार पत्र  में दैनिक जीवन की सभी  घटनाएं नियमित रुप से प्रकाशित होती है।

ALSO READS : डाकिया पर सरल भाषा में निबंध

निष्कर्ष

हम नियमित रुप से समाचार पत्र को पढ़ने की आदत बनाते है, तो यह काफी फायदेमंद साबित होता है।  हम में पढ़ने की आदत का विकास  करता है, और हमारे प्रभाव को सुधारता है। सभी जानकारियो से भी अवगत कराता है। इसी वजह से कुछ लोगों को नियमित रुप से सुबह अखबार पढ़ने की आदत होती है।

जब  लोग अपने जीवन में इतने बिजी है, ऐसे में उनके लिए देश विदेश की खबरों की जानकारी होना बहुत ही मुश्किल से संभव है,  समाचार पत्र इस तरह की  दुर्बलता को मिटाने का सबसे अच्छा साधन है।  हमें केवल 15 मिनट या आधे घंटे में किसी भी घटना की विस्तृत सूचना दे देता है। यह सभी क्षेत्रों से संबंधित व्यक्तियों के लिए  फायदेमंद है क्योंकि यह सभी के अनुरूप को खबरो को रखता है जैसे विद्यार्थियों, व्यापारियों, राजनेताओं, खिलाड़ियों, शिक्षक। 

समाचार पत्र ज्ञानवर्धन का एक जरिया होते हैं हमें नियमित रूप से उनका अध्ययन करनी की आदत होनी चाहिए। समाचार पत्रों के बिना आज के समय में मनुष्य का जीवन अधुरा है।  समाचार का महत्व बहुत अधिक हो गया है क्योंकि आज समय में शासकों को जिस वस्तु से सबसे अधिक डर है वह समाचार पत्र हैं।

समाचार पत्रों में सामाजिक मुद्दों, मानवता, संस्कृति, परम्परा,  आदि  विषयों के बारे में  लेख प्रकाशित होते हैं। यह  जनता के विचारों के बारे में भी सूचना प्रदान करता है और सामाजिक तथा आर्थिक विषयों को निपटाने में मदद करता है।  समाचार पत्रों के द्वारा राजनेताओं, सरकारी नीतियों तथा विपक्षी दलों के नीतियों के बारे में भी सूचनाओ की जानकारी प्राप्त होती है।  आज के समय में समाचार पत्र को लोकतंत्र का चैथा स्तंभ भी कहा जाने लगा है।

अंतिम शब्द- इस आर्टिकल में आपने Samachar patra essay in hindi पढ़ा। आशा करते है आपको ये निबंध पसंद आया होगा। इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करके उनकी भी मदद जरूर करे।

FAQ’S


समाचार पत्र पर निबंध कैसे लिखें?

समाचार पत्र जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग बन चुका है। हर रोज हम इसका उपयोग करते हैं। हमारे पास की न्यूजों के साथ साथ यह देश विदेश की न्यूजों के विषय में भी सूचना देता है। समाचार पत्र  हर क्षेत्र की खबर  देता रहता है।  खेल का या राजनीति का क्षे़त्र हो। या  तकनीकी का क्षेत्र हो समाचार पत्र अपने कार्य को बड़ी बखूबी से निभाते हैं।

समाचार पत्र का महत्व क्या है?

समाचार पत्र बहुत ही आवश्यक वस्तु है। यह सभी के लिए  दिन का आरंभ करने के लिए पहली और आवश्यक वस्तु है।  दिन का आरंभ ताजी खबरों और जानकारियों के साथ करना बहुत अच्छा होता है।  हमें आत्मविश्वासी बनाता है और हमारे व्यक्तित्व को उत्तम बनाने में हमारी सहायता करता है। समाचार पत्र के द्वारा सबसे पहले   खबरों की जानकारी प्रदान होती है। देश का नागरिक होने के नाते, देश तथा अन्य देशों में होने वाली  घटनाओं और विवादों के विषय में जानने के लिए पूर्ण रूप से जिम्मेदार हैं।  हमें राजनीति, खेल, व्यापार, उद्योग आदि विषयों के बारे में सूचित करता है। बॉलीवुड और व्यावसायिक हस्तियों के निजी जिंदगी के बारे में भी सूचना देता है।

Leave a Reply