You are currently viewing 200+ उ और ऊ की मात्रा वाले ‘वाक्य’ चित्र सहित (u ki matra wale vakya)
u ki matra wale vakya

200+ उ और ऊ की मात्रा वाले ‘वाक्य’ चित्र सहित (u ki matra wale vakya)

नमस्कार मित्रो, क्या आप भी u ki matra wale vakya खोज रहे है वो भी सरल भाषा में, तो आप बिल्कुल सही जगह आये हो। इस आर्टिकल में हमें उ के और ऊ के बहुत सारे वाक्य लिखे है जो आपको जरूर पसंद आएंगे। साथ ही हमने इस आर्टिकल में होम वर्क के लिए वर्कशीट भी उपलब्ध करवाई है।

अगर आप अपने बच्चो को हिंदी पढ़ना सीखा रहे है या आप एक टीचर हो और अपने स्टूडेंट्स को हिंदी पढ़ना सीखा रहे है या फिर आप खुद हिंदी पढ़ना सीख रहे हो और  u ki matra wale vakya  खोज रहे हो तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ सकते है। ये आर्टिकल आपके लिए ही लिखा गया है।

निचे दिए लिंक को क्लिक करके आप u ki matra wale shabd पढ़ और सीख सकते हो।

click here-> u ki matra wale shabd

उ की मात्रा वाले शब्द जोड़ कर पढ़े

उ + न=उन
उ + ल + झ=उलझ
उ + ष्णउष्ण
उ + ल + झ + ना=उलझना
उ + फ़=उफ़
उ + म + न=उमन
उ + स + न=उसन
उ + न + के=उनके
उ + झ + आ + न=उझान
उ + ठ + आ + न=उठान

उ की मात्रा वाले वाक्य हिंदी (chote u ki matra wale vakya )

सुधा चुप रह।
सुमन जामुन खा।
शुभम गुलाब ला।
सुबह उठ जा।
सुबह विचार लिख।
कुटिया में जा।
मुनीम हिसाब कर।
भावुक मत बन।
मुँह मत फुला।
राम सुपारी मत खा।
कुमकुम माथे पर लगा।
मधुर गाना गा।
अंकुर गुड़ खा।
मदु कुल्फी खा।
बुलबुल मत उड़ा।
पुल पर मत चढ़।
धनुष मत चला।
सुराही भर कर आ।
फुलवारी साफ़ कर।
गुलाब जामुन खा।
जुआरी मत बन।
दुकान पर जा।
कुटिया साफ़ कर।
धनुष पुल पर रख।
रुपया ला।
गुरूजी का कहना मान।
सुराही भर।
रुमाल फुटपाथ पर रख।
साबुन लगा।
राजा का मुकुट बहुत सुन्दर था।
बापु जूता पहन।
सुबह उठ कर नहा।
गुस्सा मत करो।
गुलाम मत बनो।
बुलबुल चहक उठी।
राम सुपारी मत खा।
यमुना का पानी पी।
गुलशन खिल गया है।
सुमन चुटकुला सुना रही है।
सुनील मधुर गीत गुनगुना।
फुलवारी महक रही है।
साबुन लगा कर नहा।
चूहा किताब कुतर गया।
राम बांसुरी मत बजा।
मामू सुबह हो गई है।
बुरा नहीं करना चाहिए।
कुसुम मधुर धुन सुना।
सोनू ठंडी कुल्फी खा।
गुनगुन मधुर गाना गा।
अर्जुन पुस्तक पढ़।
दुसरो के साथ बुरा मत कर।
सुबह हुई।
राहुल उठा।
मुख धूल।
मुरली बजा।
गुलाब देख।
विपुल अब मुकुट पहन।
गुड़िया गुलाबी चुनरी रख।
चुहिया कपडा कुतर गई।
अतुल पीला गुलाल लाया।
गुलाब की कली उगी।
बुलबुल गुड़ खा गई।
मुरली की धुन सुन।
कछुआ जल पी गया।
गुड़िया की पुड़िया रख।
मनु कुछ सुराही चुन।
कुसुम सुनहरा धनुष ला।
वसुधा का बटुआ उठा।
सुखद समाचार ला।
दुल्हन बहुत सुन्दर है।
कछुआ धीरे-धीरे चलता है।

ऊ की मात्रा वाले शब्द जोड़ कर पढ़े।

ध + ू + प =धूप
भ + ू + ल =भूल
ख + ू + न =खून
द + ू + ध =दूध
छ + ू + ट =छूट
उ + ू + न =ऊन
ज + ू + स =जूस
ध + ू + म =धूम
ज + ू + न =जून
म + ू + ल =मूल
न + ू + र =नूर

ऊ की मात्रा वाले वाक्य (Bade u ki matra wale vakya)

कबूतर शहतूत खा गया।
चबूतरा पर जूता उतार।
आलू का मूल्य बताओ।
राजू झाड़ू मत उठा।
पूनम दूध पी गई
खरबूजा खा।
चूड़ी खरीद ला।
भालू दुकान पर आया।
चूरन खा कर जा।
काजू मत खा।
टूटी तराजू रख।
सूरज लाल फूल लाया।
राजू झूला कल झूलना।
चूहा खजूर खा गया।
जूही राजदूत बनाई गयी।
फूलदान आज टूट गया।
रहीम पूजा कर रहा है।
मुझे सूचना मिल गई है।
आज मैं मूवी देखूंगा।
कूड़ा कूड़ेदान में डालो।
ऊठ पानी पी रहा है।
जून का महीना चला गया।
कल वापस जरूर आना।
गेहू के खेत लेह रहे।
भूकंप आ गया है।
बच्चे दूध पी रहे है।
यह राम की मूर्ति है।
सूर्य उदय हो गया है।
आज मैं मूवी देख लू।
खून मत बहा।
चूहा मत भगा
सूरज उग आया।
मयूर नाच दिखा।
जादूगर जादू दिखा।
बापू जूता पहन।
चाकू मत उठा।
कालू दूध पी।
बाजार से मूली ला।
राजू दूध पी।
पूड़ी खा ले।
घर पर पूजा कर।
चाकू से मत खेल।
मोनू इधर आ।
झूला झूला।
धुप निकल आई।
तरबूज खा।
फूल मत तोड़।
सीता दूध पी।
आलू लेकर आ।
रीना पूजा कर।
लाल सूट पहन।
भालू झूमकर नाचा।

u ki matra wale vakya WORKSHEET

u ki matra wale vakya
u ki matra wale vakya

निष्कर्ष:

इस आर्टिकल में आपने u ki matra wale vakya पढ़े और सीखे। आशा करते है, आपको पसंद आया होगा। यदि कोई सवाल हो तो कमेंट कर सकते है।

Leave a Reply