You are currently viewing व्यायाम का महत्व पर निबंध | vyayam ka mahatva essay in hindi
vyayam ka mahatva essay in hindi

व्यायाम का महत्व पर निबंध | vyayam ka mahatva essay in hindi

अगर आप भी व्यायाम के महत्व पर निबंध(vyayam ka mahatva essay in hindi) ढूँढ रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हो। इस लेख में हमने व्यायाम के महत्व पर सरल भाषा में निबंध लिखा है। ये निबंध सभी छात्रों के मददगार साबित होगा। इस निबंध को पढ़ने के बाद आपके सभी डाउट ख़तम हो जायेंगे।

vyayam ka mahatva essay in hindi

इंसान का शरीर एक यंत्र होता है। यदि कोई भी यंत्र को बेकार छोड़दे तो उसके पुर्जो में जंक लग जायेगा और कुछ दिनों के बाद सारे पुर्जे व्यर्थ हो जायेंगे। जिस यंत्र से अत्याधिक उत्पादन किया जा सकता है, वह यंत्र भारस्वरूप हो जायेगा। इसी प्रकार मनुष्य के जीवन में व्यायाम बहुत ही जरूरी होता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम की बहुत अधिक भूमिका होती है। व्यायाम का सही अर्थ ही अपने शरीर की देखरेख करना होता हैं। रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करने से आपका शरीर बीमारियों से मुक्त हो जाता है और आपका मानसिक संतुलन बना रहता है। व्यायाम आपको हमेशा खुले वातावरण में ही करना चाहिए क्योकि खुले वातावरण में व्यायाम करते समय, आपके शरीर को शुद्ध हवा और रोशनी की जरूरत होती है। हर उम्र के इंसान को व्यायाम की जरूरत होती है।

विद्यार्थियों को व्यायाम करने से मानसिक संतुलन में वृद्धि होती है। आलस दूर होता है, याददास बढ़ती है और शरीर सेहतमंद रहता है। व्यस्क लोगो को व्यायाम करने से शरीर की अकड़न और मोटापा जैसी समस्याए खत्म हो जाती है।

रोजाना व्यायाम करने से शरीर की हड्डिया मजबूत होती है। लोगो के शरीर को ऊर्जावान बनाता है। पाचन क्रिया को नियमित रूप से चलाता है और शरीर की मांसपेसियों को मजबूत करता है। व्यायाम नहीं करने से व्यक्ति के शरीर में कई प्रकार की बीमारियां लग सकती है। ऑक्सीजन और खून का सही प्रकार से संचालन नहीं होने की वजह से आपके शरीर में ह्रदय संबधित बीमारिया आ सकती है। हर इंसान का शरीर स्वस्थ होना बहुत जरूरी है और उसके लिए मनुष्य को प्रतिदिन व्यायाम करना जरूरी है। वह मनुष्य को स्वस्थ रखने में मददगार साबित होता है।

इंसान अपना भाग्यविधाता स्वयं होता है। वह सक्रीय रहे तो अपनी बलिष्ठ भुजाओं के बल से पुरे संसार में डंका बजा सकता है, और यदि निसक्रिय रहे तो यक्ष्माग्रस्त हो, खाट पर पड़े-पड़े मृत्यु की घडिया गिन सकता है। वसुंधरा वीरभोग्या है और वीर बनने के लिए व्यायाम बहुत आवश्यक होता है।

जो विधार्थी यह समंझते है की व्यायाम में समय नष्ट होता है वे भारी भूल में होते है। व्यायाम स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी होता है यही सभी बीमारयों से दूर रहने का एकमात्र साधन है।

सभी व्यक्ति को अपनी दिनचर्या में व्यायाम को जोड़ना चाहिए और नियमित रूप से निर्धारित समंय पर व्यायाम करना चाहिए। व्यायाम करने से हमें अनेको लाभ होते है। यह हमें स्वस्थ, तंदरुस्त और चुस्त रखने में मदद करता है। व्यायाम करने से व्यक्ति का मन उत्साहित और प्रसन्न रहने लगता है। व्यायाम हमारा मोटापा काम करने में भी मदद करता है। व्यायाम रोज करना सभी मनुष्य की आदत होनी चाहिए। व्यायाम हमारे जीवन को एक तरह से सरल बनाता है। हम सभी को प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए।

व्यायाम के लाभ: (vyayam ka mahatva essay in hindi)

  • व्यायाम के लाभ निम्नलिखित प्रकार से है-
  • शरीर को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम बहुत आवश्यक होता है।
  • व्यायाम करने से हमारा शरीर स्वस्थ, सुन्दर और निरोग रहता है।
  • व्यायाम करने से आलस्य दूर होता है और पाचन शक्ति भी ठीक रहती है।
  • व्यायाम से शरीर में रक्त संचार ठीक से होता है, जिससे हमें हृदय संबंधित कोई भी समस्या नहीं रहती।
  • व्यायाम से थकान, बीमारी एवं अन्य समस्या का समाधान संभव है।
  • मानव मन को शांति प्रदान करने में भी उसकी अहम भूमिका होती है।
  • व्यायाम के बहुत सारे लाभ होते है।
  • व्यायाम के दौरान शारीरिक अंगो के सक्रीय रहने के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
  • इससे शरीर को अतिरिक्त ऑक्सीजन मिलती है और फेफड़े मजबूत होते है।
  • शरीर की मांसपेशियों एवं हड्डिया मजबूत होती है।
  • रक्त का संचार सुचारु रूप से होता है।
  • पाचन क्रिया सुहद होती है।
  • व्यायाम हमारे शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ के लिए लाभ दायक है।
  • व्यायाम हमारे जीवन को एक तरह से सरल बनाता है।

ALSO READS: आदर्श विद्यार्थी पर निबंध


व्यायाम के महत्व पर 10 वाक्य | Few lines on vyayam ka mahatva

  • शरीर को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम की बहुत अधिक भूमिका होती है।
  • व्यायाम का सही अर्थ ही अपने शरीर की देखरेख करना होता हैं।
  • रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करने से आपका शरीर बीमारियों से मुक्त हो जाता है और आपका मानसिक संतुलन बना रहता है।
  • व्यायाम आपको हमेशा खुले वातावरण में ही करना चाहिए क्योकि खुले वातावरण में व्यायाम करते समय, आपके शरीर को शुद्ध हवा और रोशनी की जरूरत होती है।
  • हर उम्र के इंसान को व्यायाम की जरूरत होती है।
  • सभी व्यक्ति को अपनी दिनचर्या में व्यायाम को जोड़ना चाहिए और नियमित रूप से निर्धारित समंय पर व्यायाम करना चाहिए।
  • व्यायाम करने से हमें अनेको लाभ होते है। यह हमें स्वस्थ, तंदरुस्त और चुस्त रखने में मदद करता है।
  • व्यायाम करने से व्यक्ति का मन उत्साहित और प्रसन्न रहने लगता है।
  • व्यायाम हमारा मोटापा काम करने में भी मदद करता है।
  • व्यायाम हमारे शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ के लिए लाभ दायक है।

अंतिम विचार:– इस लेख में आपने व्यायाम के महत्व पर निबंध(vyayam ka mahatva essay in hindi) पढ़ा है। आशा करते है आपको ये निबंध पसंद आया होगा। इस निबंध को अपने सभी दोस्तों को शेयर करके उनकी मदद जरूर करे। अगर आपको किसी भी विषय पर निबंध चाहिए तो आप या तो वेबसाइट के search box में जाकर ढूंढ सकते है या फिर आप हमें कमेंट करके बता देना हम आपके लिए बहुत अच्छा निबंध तैयार करके देंगे।

ALSO READS:

essay on ‘Berojgari’ 

10 line essay on Mera parivar in hindi

Volleyball essay in Hindi

Essay on Neem tree in Hindi

Pollution essay in hindi 10 lines

10 lines on my mother in Hindi

Leave a Reply